Follow by Email

26 September, 2011

पत्नी पग-पग पर परे, पल-पल पति पतियाय-

 
पति-अनुनय  को कह धता, कुपित होय तत्काल |
बरछी-बोल  कटार-गम, दरक जाय मन-ढाल ||

त्नी  ग-ग  र  रे, ति पर  न  तियाय |
श्रीमन का मन मन्मथा, श्रीमति मति मटियाय ||




हार गले की फांस है, किया विरह-आहार |
हारहूर  से  तेज  है,  हार   हूर  अभिसार ||
हारहूर=मद्य  
आहार-विरह=रोटी के लाले


 चमकी चपला-चंचला , छींटा छेड़ छपाक |
 तेज तड़ित तन तोड़ती,  तददिन तमक तड़ाक ||



मुमुक्षता मुँहबाय के, माया मोह मिटाय |
मृत्यु-लोक से जाय के, महबूबा चिल्लाय ||
 मुमुक्षता=मुक्ति की अभिलाषा का भाव 
 

27 comments:

  1. अच्‍छी व्‍यंग्‍य प्रस्‍तुति.....

    ReplyDelete
  2. सुन्दर प्रस्तुती ! सटीक व्यंग्य!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  3. सटीक व्यंग्य ..

    ReplyDelete
  4. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल बुधवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    ReplyDelete
  5. अनुप्रास अलंकार की अनुपम छटा दर्शाते उत्तम दोहे प्रस्तुत करने के लिए बहुत बहुत बधाई गुप्ता जी

    ReplyDelete
  6. वाह .. आप अलंकारों से सजी पोस्ट लगाते अहिं हर बार और पढ़ने मों मज़ा आ जाता है ... आज तो हास्य व्यंग को भी झंकृत कर दिया ...

    ReplyDelete
  7. बहुत ही बढ़िया सर!

    सादर 

    ReplyDelete
  8. वाह वाह वाह वाह वाह

    ReplyDelete
  9. Hi,
    nie poem.

    I saw that you are with ISM.
    I am ISM passout 2k10 batch (CSE B Tech).
    From when aare you associted with ISM.

    Regards,
    Chakresh

    ReplyDelete
  10. mmravikar ji pranaam
    sach aapke rasmay dohe padh , manan kar kiskaa man na mohe . yah tippadee naheen tippad hai , ek chhote nar jeevan kaa param dhan , ran hai patnee ,sachchee vahee jo pati se tani rahe patnee .badhaayee

    ReplyDelete
  11. मुमुक्षता मुँहबाय के, माया मोह मिटाय |
    मृत्यु-लोक से जाय के, महबूबा चिल्लाय ||
    बहुत ही अनुपम पोस्ट अलंकारों से सजी हुई /बधाई आपको /मेरे ब्लॉग पर आने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद /आशा है आगे भी आपका आशीर्वाद मेरी रचनाओं को मिलता रहेगा /आभार /

    ReplyDelete
  12. सर्वप्रथम नवरात्रि पर्व पर माँ आदि शक्ति नव-दुर्गा से सबकी खुशहाली की प्रार्थना करते हुए इस पावन पर्व की बहुत बहुत बधाई व हार्दिक शुभकामनायें। सुंदर शब्द अलंकृत रचना दियो जीवन का सत्य उघार। पर ममता करुणा सहनशीलता का भी होवे ये भण्डार॥

    ReplyDelete
  13. आपकी पोस्ट ब्लोगर्स मीट वीकली (११) के मंच पर प्रस्तुत की गई है /आप आइये और अपने विचारों से हमें अवगत कराइये/आप इसी तरह मेहनत और लगन से हिंदी की सेवा करते रहें यही कामना है /आपका
    ब्लोगर्स मीट वीकली
    के मंच पर स्वागत है /जरुर पधारें /

    ReplyDelete
  14. --क्या सुंदर भई-- विश्रंखलित वाक्य हैं -क्या कोई स्पष्ट करेगा-----?

    पति की अनुनय को धता,--- का क्या अर्थ है....

    सहे चोट मन-ढाल ||----का क्या अर्थ है...

    पत्नी पग-पग पर परे, ----का क्या अर्थ है ...

    ReplyDelete
  15. काहे विचारे रविकर को गलत व अशुद्ध काव्य की राह पर धकेल रहे हैं ......साहित्य की भी हानि है....

    ReplyDelete
  16. जी !
    इस सोच के साथ --
    पति की अनुनय को धता = पति के निवेदन पर ध्यान नहीं दिया गया और पत्नी ने इनकार कर दिया |

    कुपित होय तत्काल = और तुरंत नाराज हो गई |

    बरछी - बोल कटार - गम = कुछ चुभते हुए वाक्य
    बोले गए , मन दुखी हो गया |

    सहे चोट मन - ढाल = इस झटके को मन सहता रहा ||

    आलोचना का हमेशा स्वागत है |

    हिंदी की विधिवत पढ़ाई १० वीं तक ही हुई है, इसलिए विद्वानों की छत्र-छाया हेतु प्रयासरत रहता हूँ |

    आपकी सेवा में सम्यक सुझाव हेतु ये पंक्तियाँ १० दिन पूर्व प्रेषित की थीं परन्तु शायद आपकी कृपादृष्टि उन पर न पड़ सकी ||

    कृपया परिवर्तन सुझाएँ-- आभारी रहूँगा ||

    ReplyDelete
  17. पत्नी पग-पग पर परे = पत्नी का दूर हटने से तात्पर्य

    पल-पल पति पतियाय = पति द्वारा अपना विशवास दिलाने का प्रयास

    ReplyDelete
  18. भाई वाह
    बहुत सुन्दर अलंकृत कृति है
    शानदार

    ReplyDelete
  19. कल 20/10/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  20. वाह ...बहुत खूब ।

    ReplyDelete