Follow by Email

17 November, 2011

पिताजी की पहली बरसी ||

मृत्यु मुझसे भी मिले वैसे गले |
पितृ मेरे कष्ट बिन जैसे चले ||

अनवरत अस्सी बरस युव की ठसक-
सो गए चुपचाप  किंचित ना खले ||

श्रम-साध्य जीवन वे सदा जीते रहे,
सब सन्तति उनकी मजे से तो पले ||

संस्कारों से हमारी माँ सँवारी--
आप की भृकुटी दिखाई पथ भले ||

मूँछ गर रविकर बड़ी कर ले सुनो-
आपके ही रूप में वो जा ढले ||
My Image

18 comments:

  1. विन्रम श्रन्दाजली.....

    ReplyDelete
  2. पूज्यनीय पिताजी को मेरी विनम्र श्रधांजलि

    नीरज

    ReplyDelete
  3. दिनेश जी ... पिता जी को नम्र श्रधान्जली है ....

    ReplyDelete
  4. हार्दिक श्रद्धांजलि आपके पिताजी को !

    ReplyDelete
  5. पिताजी को हार्दिक श्रद्धांजलि

    ReplyDelete
  6. पूज्यनीय पिताजी को मेरी विनम्र श्रधांजलि....

    ReplyDelete
  7. मृत्यु मुझसे भी मिले वैसे गले |
    पितृ मेरे कष्ट बिन जैसे चले ||मेरे मन की भी बात कह दी।पिताजी को विनम्र श्रद्धांजलि।

    ReplyDelete
  8. हर कोई ऐसी ही कामना करता है कि मृत्यु में भी ईश्वर की लगन रहे, कितनों को यह सौभाग्य प्राप्त होता है यह तो ईश्वर ही जाने॥सुंदर रचना रविकर भाई।

    ReplyDelete
  9. बहुत बढिया लिखा है ..
    पिताजी को हार्दिक श्रद्धांजलि !!

    ReplyDelete
  10. बहुत सधे हुए शब्दों में मन के भावो को व्यक्त किया है आपने.
    आपके पिताजी को विनम्र श्रद्धांजलि .

    ReplyDelete
  11. पिताजी को विनम्र श्रद्धांजलि

    ReplyDelete
  12. .



    पूज्य पिताजी को मेरी विनम्र श्रद्धांजलि !

    ReplyDelete
  13. बहुत भावप्रवण मित्रवर। प्रभु का सामीप्य जिस व्यक्ति के प्रारब्ध में है,वही अंतिम क्षणों में आनंदित हो अपने प्राण त्यागता है।

    ReplyDelete
  14. संत हृदय वाले लोग ही जीवन मृत्यु के साथ सामंजस्य बिठा पाते हैं!
    आत्मरूप में वे आज भी आपके साथ ही होंगे!

    ReplyDelete
  15. baba ko meri hardik shradhanjali. . best of the poems!!

    ReplyDelete
  16. भावुक करती हुई रचना ..
    पिताजी को भावभीनी श्रधांजलि

    ReplyDelete
  17. पूज्यनीय पिताजी को मेरी विनम्र श्रधांजलि.

    ReplyDelete
  18. पूजनीय पिताजी को विनम्र श्रद्धांजलि

    ReplyDelete