Follow by Email

18 April, 2013

टैग लगी लाइन मिली, लिख दिल्ली दिलदार -

दिल्ली में पर्यटन का, करना है विस्तार । 
टैग लगी लाइन मिली, लिख दिल्ली दिलदार । 

लिख दिल्ली दिलदार, छुपा इतिहास अनोखा । 
किन्तु रहो हुशियार, यहाँ पग पग पर धोखा । 

लूट क़त्ल दुष्कर्म, ठोकते मुजरिम किल्ली । 
रख ताबूत तयार, रिझाए दुनिया दिल्ली ॥ 

4 comments:


  1. लिख दिल्ली दिलदार, छुपा इतिहास अनोखा ।
    किन्तु रहो हुशियार, यहाँ पग पग पर धोखा ।

    बढिया, आप सच में दिल्ली को बहुत करीब से समझ गए.. वाकई

    ReplyDelete
  2. देवी सिध्धिदात्री माता -दिवस की वधाई !
    गलियों गलियों बागों बागों घूमे बन् कर बंजारा |
    समझो वह है अपनी धरती मैया का सब से प्यारा ||

    ReplyDelete
  3. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा शनिवार (20 -4-2013) के चर्चा मंच पर भी है ।
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete