Follow by Email

09 April, 2013

रहा खुदा को भूल, बोलता खुद की जै जै-

कासी काबा कोसती, काया कोसों दूर । 
सुरसाई सुमिरै नहीं, सोहै सुरा सुरूर ।  

सोहै सुरा सुरूर, इसी में जीवन खोजै । 
रहा खुदा को भूल, बोलता खुद की जै जै । 

खाना पीना मौज, स्वार्थी अति कटु-भाषी । 
भोगे कष्ट-अपार,  प्राण की कठिन निकासी ।  



19 comments:

  1. कबीर की याद दिला दी महाराज ..
    अभिभूत हूँ !

    ReplyDelete
  2. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ...
    आभार

    ReplyDelete
  3. अपनी जय बोलने वालों की कमी नही है आदरणीय,बहुत ही उम्दा प्रस्तुती.

    ReplyDelete
  4. बहु खूब . सुन्दर . भाब पूर्ण कबिता . बधाई .

    ReplyDelete
  5. आपकी यह प्रस्तुति कल के चर्चा मंच पर है
    कृपया पधारें

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्‍छी प्रस्‍तुति

    ReplyDelete
  7. कासी काबा कोसती, काया कोसों दूर ।
    सुरसाई सुमिरै नहीं, सोहै सुरा सुरूर ।

    क्या कहने
    बहुत सुंदर

    अंतिम दोहा भी लाजववाब है

    ReplyDelete
  8. बढ़िया प्रस्तुति है काबा काशी ........शुक्रिया चर्चा मंच में बिठाने का .

    ReplyDelete
  9. bahut khubsuurat rachna, aabhar

    ReplyDelete
  10. जीवन दर्शन को उजागर करती सुंदर कुण्डलिया.......

    ReplyDelete
  11. जीवन दर्शन को उजागर करती सुंदर कुण्डलिया.......

    ReplyDelete
  12. अब यही चलन बनता जा रहा है

    ReplyDelete
  13. सुन्दर . भाब पूर्ण कबिता . नवरात्रि की हार्दिक शुभ कामनाएं
    भ्रमर ५

    ReplyDelete
  14. कथनी और करनी में अंतर रखना इंसानी फ़ितरत हो गई है!

    ReplyDelete
  15. बैसाखी की लाख लाख वधाइयों के साथ -माता स्कन्द माता की जय जय कार !!
    मीत आप हैं डालते, कुण्डलिनियों में जान |
    कुण्डलिया छोटी मगर, है कविता की शान ||

    ReplyDelete
  16. क्या बात है, बहुत खूब.
    "सुरसाई सुमिरै नहीं, सोहै सुरा सुरूर"
    बहुत सुन्दर प्रस्तुति, मेरा हमेशा मानना है आप दोहा के बहुत बड़े उस्ताद है.

    ReplyDelete
  17. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.
    सादर

    ReplyDelete