Follow by Email

27 June, 2013

जहर बुझाए तीर, कलेजा ज्यों ज्यों हूके-

 चूके ना वाणी कभी, भेदे अपना लक्ष्य |
दुर्जन सज्जन चर अचर, चाहे भक्ष्याभक्ष्य |

चाहे भक्ष्याभक्ष्य, ढाल-वाणी बारूदी |
छोड़े जिभ्या बाण, ढाल क्यों नाहक कूदी |

जहर बुझाए तीर, कलेजा ज्यों ज्यों हूके |
जाएँ रिश्ते टूट, किन्तु ना जिभ्या चूके || ,



5 comments:

  1. जाएँ रिश्ते टूट, किन्तु ना जिभ्या चूके || ,
    Badee hee achook baat kah dee aapne....

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्‍दर रचना

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्‍दर रचना

    ReplyDelete