Follow by Email

26 September, 2013

काली कॉफ़ी पीजिये, कट जाने दो नाक-

लाशों पर टेबुल सजे, बैठे भारत पाक |
काली कॉफ़ी पीजिये, कट जाने दो नाक |

कट जाने दो नाक, करें हमले वे दैनिक |
मरती जनता आम, मरें सीमा पर सैनिक |

रविकर कर आराम, बैठ प्रभुसत्ता नाशो |
  फिर टकराओ जाम, अरी सरकारी लाशों || 

10 comments:

  1. वाह ! बहुत बढ़िया कहा है ..

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर और सामयिक रचना

    ReplyDelete
  3. जो भी हो रहा है बहुत दुखद है..

    ReplyDelete
  4. ''सरकारी लाशों'' ने क्‍या से क्‍या बना दिया है देशकाल को !!!!!!!!

    ReplyDelete
  5. बहुत ही सुन्दर!

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सुन्दर!

    ReplyDelete
  7. सामयिक विषय पर बहुत सुन्दर कुण्डलियाँ
    नई पोस्ट अनुभूति : नई रौशनी !
    नई पोस्ट साधू या शैतान

    ReplyDelete
  8. आपकी यह सुन्दर रचना दिनांक 04.10.2013 को http://nirjhar-times.blogspot.in/ पर लिंक की गयी है। कृपया इसे देखें और अपने सुझाव दें।

    ReplyDelete
  9. आपकी यह सुन्दर रचना दिनांक 04.10.2013 को http://nirjhar-times.blogspot.in/ पर लिंक की गयी है। कृपया इसे देखें और अपने सुझाव दें।

    ReplyDelete
  10. आपकी यह सुन्दर रचना दिनांक 04.10.2013 को http://nirjhar-times.blogspot.in/ पर लिंक की गयी है। कृपया इसे देखें और अपने सुझाव दें।

    ReplyDelete