Follow by Email

02 October, 2013

देता कुटिल सलाह, मानती किचन कैबिनट -

NEW

प्रणव नाद से मुखर जी, रोके अनुचित चाह |
वाह वाह युवराज की, देता कुटिल सलाह |

देता कुटिल सलाह, मानती किचन कैबिनट |
हो जाते सब चित्त, करा दे बबलू नटखट |

झेल रही सरकार, रोज ही विकट हादसे |
रविकर करता ध्यान, हमेशा प्रणव नाद से ||

OLD
दागी अध्यादेश पर, तीन दिनों में खाज |
श्रेष्ठ मुखर-जी-वन सदा, धत मौनी युवराज |

धत मौनी युवराज, बड़े गुस्से में लालू |
मारक मिर्ची तेज, चाट ले किन्तु कचालू |

सुबह मचाये शोर, नहीं महतारी जागी |
शीघ्र बुला के प्रेस, गोलियां भर भर दागी ||

3 comments:

  1. सुबह मचाये शोर, नहीं महतारी जागी |
    शीघ्र बुला के प्रेस, गोलियां भर भर दागी ||

    बहुत खूब !

    ReplyDelete
  2. बिन बरखा बरसात के बनमा नाचे मोर ,

    चारा खाके पेट भर खूब मचाएं शोर .

    ReplyDelete
  3. महतारी तो सोई ही हुई है और सबको सुला भी रही है।

    ReplyDelete