Follow by Email

29 November, 2013

लेकिन बंद कपाट, दनुजता बाहर आई-

खोजा-खाजी खुन्नसी, खड़ी खुद-ब-खुद खाट |
रेशम के पैबंद से, बहुत सुधारा टाट |

बहुत सुधारा टाट, ठाठ से करे कमाई |
लेकिन बंद कपाट, दनुजता बाहर आई |

कर के नोच-खसोट, बने जब खुद से काजी |
सम्मुख आये खोट, शुरू फिर खोजा-खाजी ||

1 comment:

  1. वाह गजब खोजा-खाजी की है।

    ReplyDelete