Follow by Email

19 January, 2017

जब नारि रो के कम करे गम मर्द रोके अश्रु सारे


जब छोड़ कर जाते बड़े तो भाग्य छोटों का संवारे।
भाई-बहन को कर प्रतिष्ठित स्वयं की वह चाह मारे।
बच्चे मनाकर पर्व नौ नौ, बाप की बखिया उघारे।
जब नारि रो के कम करे गम मर्द रोके अश्रु सारे।

1 comment: